डेजर्ट फेस्टिवल : पर्यटकों के लिए एक सांस्कृतिक यात्रा


जयपुर। दुनिया भर के पर्यटकों द्वारा मरू महोत्सव (डेजर्ट फेस्टिवल) मनाया गया, जिसकी शुरूआत राजस्थान के पोखरण के गांधी चौक से भव्य जुलूस के साथ हुई। इस जुलूस में  विभिन्न कलाकारों द्वारा नृत्य व लोक संगीत प्रस्तुत किया गया। पोखरण के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में मेहंदी, मांडणा, रंगोली, ड्राइंग, कबड्डी, मटका दौड़, रस्साकस्सी जैसी कई प्रतियोगिताएं आयोजित की गई और लोक कलाकारों द्वारा रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए। राजस्थान सरकार के पर्यटन विभाग एवं जिला प्रशाशन द्वारा इस चार दिवसीय फेस्टिवल का आयोजन किया गया।

जैसलमेर के खाभा किले में पीकॉक साइटिंग और गढ़ीसर झील पर दीपदान व ड्राइंग कॉम्पिटिशन आयोजित किया गया। गढ़ीसर झील से लक्ष्मीनाथ मंदिर तक हेरिटेज वॉक हुई। रात में भव्य लेजर शो हुआ, लोक कलाकारों द्वारा ‘सैंडस्केप‘ की प्रस्तुति दी गई और इंडो-वेस्टर्न बैंड ‘स्वराग‘ द्वारा म्यूजिकल परफॉर्मेंस दी गई।

जैसलमेर किले से शहीद पूनम सिंह स्टेडियम तक जुलूस निकाला गया। शहीद पूनम सिंह स्टेडियम में डेजर्ट फेस्टिवल का उद्घाटन किया गया। लोक कलाकारों द्वारा सांस्कृतिक प्रस्तुतियां दी गई और मिस मूमल, मिस्टर डेजर्ट, विदेशियों के लिए राजस्थानी पोशाक तथा सैंड आर्ट डिस्प्ले जैसी विभिन्न प्रतियोगिताएं भी हुईं। जैसलमेर किले में पूरन चंद वडाली एवं लखविंदर वडाली द्वारा शानदार प्रस्तुतियां दी गई।

कई प्रतियोगिताएं हुई, जिनमें केमल डेकोरेशन, शान-ए-मरुधरा व भारतीयों व विदेशियों की रस्साकस्सी मुख्य रहीं। देदानसर स्टेडियम में आर्मी बैंड डिस्प्ले, भारतीय वायु सेना द्वारा एयर वॉरियर ड्रिल शो, केमल पोलो मैच, महिलाओं के लिए पनिहारी मटका दौड़, सीमा सुरक्षा बल के जवानों द्वारा केमल टैटू शो जैसे कई आयोजन हुए। खुरी गांव के रेतीले धोरों में अतरंगी प्रोजेक्ट के बैंड्स तथा प्रियांश पालीवाल द्वारा मनमोहन सांस्कृतिक प्रस्तुतियां दी गई।

Advertisements